(internet) कैसे चलता है? - (what is internet in hindi) 2020

हम जानने वाले internet कैसे चलता है और कितनी मेहनत के बाद आप तक पहोचा और उसे किस तरह इस्तेमाल करते हैं तो यहाँ में आपको इसके बारे में जानकारी देने वाल हु

internet kaise chalta hai


दोस्तों internet क्या है इन्टरनेट चलाना काफी आम बात है लेकिन आपने कभी सोचा है जो आपके पास internet पहुंच रहा है वह किस तरीके से पहुंच रहा है दोस्तों आप तक internet आने के लिए उसके पीछे बहुत सारे लोगों की और बहुत ज्यादा दिनों तक की मेहनत होती है अगर आप internet आसानी से यूज कर रहे हैं तो उसके लिए बहुत सारे लोगों ने बहुत सारे दिनों तक काफी मेहनत की है 

internet कैसे चलता है (what is internet in hindi)

दोस्तों हर कोई यही सोचता है कि internet हमेशा satellite के जरिए हम तक पहुंचता है जब भी हम कोई सर्च करते हैं तो यह पहले satellite तक जाता है और फिर यह हम तक पहुंचता है लेकिन मैं आपको यह बता दो कि आप पूरी तरह से गलत है internet का satellite से कुछ भी लेना देना नहीं है

अगर आप internet चला पा रहे तो वह सिर्फ पूरी दुनिया में बिछाए गए हुए fiber optic cable की वजह से ही आप internet का इस्तेमाल कर पा रहे होते हैं और यह ऑप्टिकल पूरी दुनिया में बिछाये हुए हैं यह समुंदर के जरिए हर एक देश में जाते है और जैसे ही अपने देश में आता है तब यह पूरी इंडिया में fiber optic cable को बिछाकर टावर के जरिए हम तक पहुंचाया जाता है और हम उसे इस्तेमाल कर पाते हैं

internet चलाने के लिए समंदर में एक कंपनी होती है जो समुंदर में इन सभी केबल्स को पूरी दुनिया से कनेक्ट करके रखी है इसके बाद जब भी कोई अगर किसी भी दुनिया में वह अपना टेलीकॉम कंपनी चलाना चाहता है तो वह इन कंपनियों से बात करके फिर अपने खुद के fiber optic cable अपने देश में लाता है और वह कुछ पैसों की शर्तों पर उन्हें यह सर्विस प्रोवाइड करने के लिए देता है

तब यह कंपनियां जैसे कि jio, vodafone, idea यह सब कंपनी उनसे लेकर आप तक पहुंचा देती है टावर के जरिए तो इस तरह आपका internet चलता है उम्मीद है की आपकी internet की knowledge बढ़ रही है और आप internnet कैसे चलता है आप समझ रहे है. 

server क्या है

दोस्तों कोई भी कंपनी कोई भी वेबसाइट चलाने के लिए उनका एक server होता है जो हमें सभी डाटा लाने और ले जाने में मदद करता है यानी जो एक डांटा कहीं पर सेव होता है अगर यह डाटा यानी कि server अगर इंडिया में है तो आपको internet काफी अच्छे से चलेगा यानी यह जब भी चीज सर्च करते हैं तो वह बाहर देश में नहीं जाएगा वहअगर इंडिया में उसका server है तो वहीं से उठाकर आपको जल्दी से पहुंचा देगा यानी आपका internet पर बिताने का समय काफी कम हो जाएगा

ठीक इसी तरह अगर किसी भी वेबसाइट का server अगर इंडिया में नहीं है तो आपको इसके लिए काफी समय लग सकता है पहले वह आपके फोन टावर से निकलते हुए उन कंपनियों के पास जाएगा फिर समंदर के जरिए होते हुए उस server तक जाएगा अभी server जहां भी होगा जैसे कि अमेरिका ऑस्ट्रेलिया तब वहां से यह होते हुए आप तक पहुंच जाएगा और तब आप इसे इस्तेमाल कर सकेंगे लेकिन आपको इसके लिए internet पर काफी समय बिताना पड़ सकता है अगर किसी चीज का server बाहर है इंडिया से तो आपको काफी समय बाद उस वेबसाइट का रिस्पॉन्स आता है लेकिन अगर यह इंडिया में ही है तो यह लोड काफी जल्दी ले लेता है और आपको जल्दी रिजल्ट दिखाने लगते हैं

indian sarver

दोस्तों कुछ server ऐसे भी होते हैं जिन्हें इंडिया के लिए ही बनाया गया होता है जैसे कि आधार कार्ड का डाटा के लिए यानी अगर आप आधार कार्ड का कोई डाटा सेव करते हैं या उसकी वेबसाइट पर जाते हैं तो उसका server इंडिया में ही है अगर उसे किसी और देश में लगा दिया जाए तो उसके बाद वह डाटा जब आप इस्तेमाल करेंगे तो वह server से होते हुए उस fiber optic cable से होते हुए वह किसी देश में जाएगा ऐसे में यह डाटा पूरी तरह लिक होने का चांस भी होता है

यानी कोई भी उसे आसानी से हैक कर सकता है इसलिए बहुत सारे ऐसे server भी होते हैं जिसे इंडिया में ही सिर्फ इंडिया के लिए बनाया गया होता है और यह काफी सेफ भी होता है इसलिए कुछ server को इंडिया में ही लगाया जाता है ऐसे बहुत सारे server है जो government ने लगाए हैं लेकिन हमें इस बारे में पता तक नहीं होता है तो इस तरह आपके jio phone, smartphone, laptop, pc में internet क्स्हलता है

कंपनी सस्ते internet कैसे देती है

दोस्तों इसके लिए काफी साधारण सी बात में आपको कहूंगा कि जैसे कि जियो अब आया तो उसने पूरी इंडिया में डाटा काफी सस्ता कर दिया था इसका एक कारण यह है कि जिओ ने अपनी खुद की fiber optic cable समुंदर में उतारा हुआ है और यह पूरे एशिया में और ऑस्ट्रेलिया में इसे बिछाया गया है यानी जैसे कि मैंने आपको पहले बताया था कि जिस कंपनी ने समंदर में fiber optic cable डाला है उन्हें यह कंपनियां कुछ पैसे देती है लेकिन उन्होंने अपने खुद के ही केवल समुंदर में उतारे हुए हैं तो इससे जिओ का कोई भी पैसा नहीं लगता है इसलिए आपको जियो हमेशा ज्यादा डाटा और फ्री में डाटा देता है

internet धीरे क्यों चलता है

यह डाटा 100 gbps तक की speed का होता है लेकिन जब तक यह आपके फोन या लैपटॉप कंप्यूटर तक पहुंचता है तब इसकी speed काफी कम हो जाती है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अगर जिओ के पास 100 gbps का ही speed है तो वह उससे ज्यादा speed नहीं ला सकती है तो ऐसे में किसी शहर में जैसे कि मुंबई में अगर कोई internet इस्तेमाल कर रहा है तो वह अगर कम आबादी का शहर है तो वहां internet ज्यादा तेजी से चलेगा 

लेकिन उसी जगह पर बहुत ज्यादा यूजर है तो जियो को सिर्फ यही करना पड़ेगा कि उस internet की speed को उन सभी लोगों में बांटना पड़ेगा इससे दूसरे लोगों का इस्तेमाल किए जाने वाला internet काफी धीरे हो जाता है तो इस तरह से आपको कभी internet धीरे और कभी तेज मिलता है लेकिन अगर आप इसे सुबह चलाते हैं तो यह इसकी speed काफी तेज होती है क्योंकि सुबह बहुत कम ही लोग इसका इस्तेमाल करते हैं

लेकिन जब आप दोपहर में internet का इस्तेमाल कर रहे हो तो आप यह देखते हैं कि इसकी speed काफी कम हो जाती है वह इसलिए होता है कि उस समय बहुत सारे कंपनियां ऑफिस और लोग internet चला रहे होते हैं इसलिए आपको डाटा काफी धीरे मिलने लगता है

internet के लिए कितना पैसा लगता है

हर कोई यह सोचता है कि जब आप जिस internet के लिए पैसे खर्च कर रहे हो वह internet आपको internet इस्तेमाल करने के लिए ही देना पड़ता है लेकिन में आपको बता दू की बिल्कुल ऐसा नहीं है जब आप internet के लिए पैसे देते हैं तो वह सिर्फ इसलिए देना पड़ता है क्योंकि पूरी दुनिया में जो भी fiber optic cable बिछाई गई है हुए हैं आप उनके मेंटिनेस कॉस्ट को दे रहे होते हैं और उसकी देखभाल अच्छे से की जा सके कोई समस्या होती है तो वह उस पैसे के जरिए उसे जल्द से जल्द सही किया जा सके

और बाकी जो खर्च आता है वह कंपनियां अपने प्रॉफिट में इस्तेमाल करती है और इस तरह से आपका सभी पैसा internet पर खर्च होता है कोई भी टेलीकॉम कंपनी को internet के लिए सिर्फ एक ही बार खर्च करना पड़ता है उसके बाद वह सिर्फ जो भी उन्होंने internet जितने fiber optic cable बिछाया है उन लोगों तक अपनी पहुंच बना कर अच्छे से इनकम करती है

submarine cables देश में कहा है?

दोस्तों समंदर से होते हुए जो केबल आते हैं वह मुंबई में और साउथ इंडिया के जगह पर बिछाई गई है लेकिन सबसे ज्यादा मुंबई में है अगर आप दिल्ली में कोई चीज search कर रहे होते हैं बाहर देश के server से तो वह सबसे पहले मुंबई तक आपका डाटा जाएगा फिर वहां से केबल से होते हुए किसी और देश के server तक पहुंचेगा और वहां से फिर से होते हुए मुंबई से आप तक

यानी दिल्ली में पहुंच सकता है यह सब इस तरह से काम करता है और अगर आप मुंबई से internet चला रहे तो यह भी हो सकता है कि आपका internet दिल्ली के मुकाबले थोड़ा ज्यादा तेज चल रहा हो और इसके बाद अगर आप दिल्ली में चला रहे तो हो सकता है कि यह थोड़ा धीरे चल सकता है और यह भी निर्भर होता है कि आपके शहर में कितने ज्यादा लोग internet का इस्तेमाल कर रहे हैं तो दोस्तों उम्मीद है अब आप समझ गए होगे कि internet कैसे चलता है और इसे चलाने के लिए किन-किन जरूरतों को पूरा करने के बाद आपके मोबाइल या फोन लैपटॉप तक एक साधारण net पहुंचता है


इसे चलाने के लिए satellite से इसका कोई भी मतलब नहीं होता है हालांकि सिर्फ 5% ही चीज होती है जो satellite के जरिए होती है बाकी सब जमीन पर ही बिछाए गए और समंदर के जरिए लाए गए fiber optic cable के जरिए ही काम करता है दोस्तों उम्मीद है internet की जानकारी हिंदी में आपको अच्छे से मिल गयी होगी और यह information आपको कैसा लगा हमें जरुर बताये

Post a comment

0 Comments